लोक संगीत की महक पूरे देश में बिखेर रहे हैं उस्ताद अब्दुल करीम खान

उस्ताद अब्दुल करीम खान एक ऐसा व्यक्तित्व जो की देश कि विभिन्न हिस्सों में अपनी कला की छाप छोड़ चुका है।

विभिन्न लोक कार्यक्रमों, यात्रा थिएटरों और असम के लोक नृत्यों का प्रदर्शन करने वाले बुजुर्ग लोगों की एक सुव्यवस्थित मंडली है गोलपरिया लोक संस्कृति के प्रचार-प्रसार संरक्षण और संवर्धन के लिए अथक परिश्रम करने वाले कलाकार इस उम्र में लोक संगीत की सुगंध फैलाने के लिए असम और देश के अन्य हिस्सों में घूमते रहे हैं।

उस्ताद अब्दुल करीम को असम के प्रसिद्ध निर्देशक अभिनेता प्रायत अब्दुल मजीद द्वारा ‘उस्ताद’ की उपाधि से सम्मानित किया गया है।

उस्ताद करीम खान का जन्म कोकराझार में हुआ था, किशोरावस्था के दौरान चाकी गोपालपरिया की लोक संस्कृति से मोहित उस्ताद खान सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘मैनामती शिल्पी समाज’ का नेतृत्व कर रहे हैं चित्रलेखा थिएटर में वह ‘पद्मश्री प्रतिमा’ और मैनामती शिल्पी समाज, ‘भाल मनुसर भील कोठा’ जैसे नृत्य नाटक करते हैं।

उस्ताद करीम खान एक नृत्य-गीत प्रशिक्षक और तीन सौ से अधिक गोलपरिया और असमिया गीतों के संगीतकार हैं कलाकारों का समूह देश के विभिन्न हिस्सों में गोलपरिया नृत्य-गीत का प्रदर्शन करता रहा है उस्ताद खान गोलपरिया लोक संगीत में आधुनिक वाद्ययंत्रों को शामिल करने का समर्थन नहीं करते हैं।

उस्ताद ने 2001-02  में अपने डांस ड्रामा ‘‘नैनेर काजल’ के लिए मूनलाइट मीडिया अवार्ड भी जीत चुके हैं।

उन्होंने गुवाहाटी में अपना करियर शुरू किया देसी जंगोस्थिया मंच, सांस्कृतिक महासभा, आस आदि ने सम्मान और पहचान दी है।

गोपालपुर में लोकगीत कार्यक्रम मैनामती शिल्पी समाज से 42 वर्षों से अधिक समय से जुड़े अब्दुल करीम खान ने विभिन्न जातीय समूहों के बीच सद्भाव पैदा करने के उद्देश्य से कई गीत लिखे हैं और कई अन्य गीतों में गाया है। उन्हें लोक संगीत के प्रशिक्षक के रूप में भी जाना जाता है उन्होंने नई पीढ़ी के कलाकारों से लोक संगीत का अध्ययन करने का आह्वान किया है।

72 वर्षीय कलाकार अब्दुल करीम खान को राज्य सरकार के कलाकार पेंशन से वंचित कर दिया गया है हालांकि वह नहीं रुके आर्थिक तंगी के बीच इस कलाकार ने असम के गांवों की यात्रा की और लोक संगीत के रूप में अपनी सुगंध फैलाई वह अभी भी राज्य के ईमूर से सिमूर तक सद्भाव का गीत गाने के लिए यात्रा कर रहे हैं वो कहते हैं यह सफर आगे भी जारी रहेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here