पैग़म्बर मुहम्मद का जीवनः वैश्विक गाँव के संदर्भ में

तिरंगे का तीसरा रंग / प्रो. अख़्तरुल वासे

परिवर्तन की प्रक्रिया हमेशा दुनिया में चलती रहती है, बल्कि इसकी व्याख्या ही परिवर्तन ‎और गति के संदर्भ में ही की जाती है. समय क्या है? यह गति का पैमाना ही तो है.

अल्लामा ‎इक़बाल के अनुसार, यदि दुनिया में स्थिरता है, तो केवल परिवर्तन ही को स्थिरता हासिल है. ‎परिवर्तन ही एकमात्र ऐसी चीज है जो हमेशा रहती है, शांति और स्थिरता एक भ्रम है, अन्यथा ‎‎यह ब्रह्मांड हमेशा प्रतिध्वनि से गूंजता रहता.

परिवर्तन के इस तरीक़े से समय और परिस्थिति भी सुरक्षित नहीं है. जब से मनुष्य ने ‎इस ज़मीन पर क़दम रखा और मानव समाज का निर्माण किया, उसी वक़्त से यह समाज भी ‎इस परिवर्तन के प्रभाव में है और हमेशा जाने-अनजाने में यह बदलाव होता रहता है.

आधुनिक युग में जो वैश्विक परिवर्तन हुए हैं, उसके उदाहरण अतीत में नहीं मिलते हैं. ‎आधुनिक युग में कुछ महत्वपूर्ण क्रांतियाँ हुईं जिनके कारण दुनिया के बौद्धिक परिदृश्य और ‎सांस्कृतिक क्षितिज, सामाजिक संगठन, अंतर्राष्ट्रीय संबंध सब कुछ बदल गया. संचार के उन्नत ‎और परिवहन के अत्यधिक विकसित साधनों ने दुनिया को एक गाँव में बदल दिया है.

आज ‎दुनिया में हर दूरी कुछ ही घंटों में तय की जा सकती है और किसी संदेश को एक छोर से ‎दूसरे छोर तक पहुंचाना चंद पलों की बात है.

इसी तरह धन की प्रचुरता के कारण लोगों की ‎आवाजाही काफी बढ़ गई है. कुछ समय पहले तक एक व्यक्ति के लिए अपने देश या अपने ‎‎शहर से बाहर क़दम रखे बिना अपने पूरे जीवन की यात्रा को पूरा करना संभव था, और वह ‎अन्य धर्मों, अन्य सभ्यताओं और विदेशी राष्ट्रों से बिल्कुल भी संबंधित नहीं था, लेकिन अब ऐसा ‎संभव नहीं रहा.

अब तो यह दुनिया अपने आप में एक गाँव है, एक शहर है. एक ऐसा शहर ‎जहाँ वो सारी चीज़ें एक जगह मौजूद हैं, जो कभी पूरी दुनिया की कल्पना मात्र थी.

‎एक लंबी प्रस्तावना से बचते हुए, यह कहना है कि हमने तय किया है कि ईद ‎मिलादुन्नबी (सल्ल.) के इस पवित्र महीने में हम अपने कॉलम में केवल पैगंबर मुहम्मद सल्ल. के ‎बारे में ही बात करेंगे क्योंकि अल्लाह ने स्वयं कहा हैः‎

कि मुहम्मद से वफ़ा तूने तो हम तेरे हैं

‎ये जहाँ चीज़ है क्या लौह-ओ-क़लम तेरे हैं‎

ग़ौरतलब मामला यह है कि वर्तमान युग के असाधारण परिवर्तनों और इसके ‎परिणामस्वरूप उत्पन्न होने वाली नई समस्याओं के बारे में पैगंबर मुहम्मद (सल्ल.) की ज़िंदगी से ‎हमें क्या मार्गदर्शन मिलता है और हज़रत मुहम्मद (सल्ल.) की ज़िंदगी जो हर समय और सभी ‎परिवर्तनों के लिए मार्गदर्शक है, उससे हमें क्या कुछ सीखने को मिल सकता है?‎

‎यदि हम आज की समस्याओं का वर्गीकरण करें तो उन्हें कुछ विषयों में विभाजित किया ‎जा सकता है. एक सामाजिक परिवर्तन जिसमें विभिन्न धर्मों और संस्कृतियों और विभिन्न धर्मों के ‎अनुयायियों की परस्पर जुड़ाव कई गुना बढ़ गया है, और सूचना, संचार और प्रसारण के माध्यमों ‎ने मनुष्य को दुनिया के सभी धर्मों और सभ्यताओं से सीधे तौर पर जोड़ा है.

दूसरा बड़ा ‎परिवर्तन विज्ञान और प्रौद्योगिकी है जिसने कुछ ऐसी समस्याएं और कठिनाइयाँ पैदा की हैं ‎जिनकी पहले कभी कल्पना भी नहीं की गई थी.

इसका सबसे बड़ा पहलू पर्यावरण प्रदूषण है ‎जिसने विभिन्न समस्याओं को जन्म दिया है. तीसरी बड़ी चुनौती व्यक्तिगत स्तर पर है. आज ‎का मनुष्य पहले से अधिक भौतिकवादी और अधिक उपभोक्तावादी हो गया है, जिसके कारण ‎भ्रष्टाचार, उत्पीड़न और दुर्व्यवहार, क्षेत्रीय, धार्मिक और राष्ट्रीय पूर्वाग्रहों में अत्यधिक वृद्धि हुई है. ‎व्यक्तिगत लक्ष्यों और व्यक्तिगत पहचान के भेद ने मानव समाज को बर्बादी और पतन के द्वार पर ‎ला खड़ा किया है.

‎ऐसी स्थितियों में हमें पैग़म्बर मुहम्मद (सल्ल.) की ज़िंदगी से बहुत अच्छा मार्गदर्शन ‎मिलता है. इस्लाम की यह अवधारणा कि इस ब्रह्मांड का ख़ुदा एक है और मनुष्य की उत्पत्ति ‎भी एक ही से हुई है, एक महान प्रेरणा है जो मनुष्य को सामाजिक समानता और धार्मिक ‎सद्भाव का पाठ पढ़ाती है. अल्लाह तआला का कहना है कि ‘‘ऐ लोगों! अपने रब से डरो, ‎जिसने तुम्हें एक इंसान से पैदा किया और उससे उसका जोड़ा बनाया और फिर उनसे बहुत से ‎स्त्री-पुरुष पैदा किए.” (अन्निसाः1)‎

इसी तरह धार्मिक और सांस्कृतिक सद्भाव के लिए इस्लाम का निर्देश है कि ‘‘तमाम ‎इंसान शुरू में एक ही समुदाय थे, फिर उन्होंने आपस में मतभेद पैदा किए.” (यूनुसः11) इस ‎प्रकार मनुष्य वास्तव में एक हैं और धर्म भी मूल रूप से एक ही पेड़ से निकली हुई कई शाखाएँ ‎हैं. इसलिए पुरुषों के बीच नस्लीय अंतर और राष्ट्रों के बीच बौद्धिक और धार्मिक मतभेदों को ‎प्रोत्साहित किया जाना चाहिए और उन्हें मिटाने का प्रयास उस ईश्वरीय ज्ञान के विपरीत होगा ‎जिसने उन्हें बनाया है.

ये सांस्कृतिक रंगारंगी और विचित्रता ही तो इस उद्यान के श्रृंगार हैं, ‎इन्हें बनाए रखते हुए मनुष्य की भलाई के लिए इसका उपयोग करना है. इसलिए इस्लाम ने ‎‎यह सिद्धांत दिया कि धर्म में कोई बाध्यता नहीं है और यह कि आपके लिए आपका धर्म है और ‎हमारे लिए हमारा धर्म है.

कुरान में यह भी कहा गया है कि अगर अल्लाह लोगों को एक-दूसरे ‎से दूर नहीं करता, तो दूसरे धार्मिक स्थल ख़त्म हो जाते और अल्लाह के रसूल (सल्लल्लाहु ‎अलैहि व सल्लम) ने भी किसी के धार्मिक स्थलों को न गिराने की नसीहत की है, न ही धार्मिक ‎अनुष्ठानों पर रोक लगाई जाए.

धार्मिक लोगों पर अत्याचार न किया जाए. इस तरह अल्लाह ‎के रसूल (सल्ल.) की शिक्षाएँ हमें इस वैश्विक गाँव की धार्मिक और सांस्कृ‎तिक विविधता को स्वीकार करने और इस्लाम को अपने जीवन का मार्गदर्शक बनाते हुए अन्य ‎धर्मों का सम्मान करने के लिए मार्गदर्शन करती हैं. बेशक धर्म परिवर्तन करना और इस्लाम धर्म ‎अपनाने की आज़ादी है लेकिन ये आज़ादी इंसान की इच्छा और शक्ति के अधीन है. धन-बल ‎से नहीं.

उपभोक्तावाद और बढ़ती तकनीक ने जो समस्याएं पैदा की हैं, उनके संबंध में हमें यह ‎निर्देश अल्लाह के रसूल (सल्ल.) से मिलता है कि मनुष्य इस दुनिया में एक परीक्षा के लिए ‎आया है और इस परीक्षा में चीज़ों को संतुलित तरीक़े से इस्तेमाल करना भी शामिल है.

भौतिक ‎वस्तुओं का अत्यधिक उपयोग उसके जीवन के उद्देश्य के विरुद्ध है. यहाँ तक कि अल्लाह के ‎रसूल (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) ने निर्देश दिया कि यदि कोई बहती हुई नहर के किनारे हो ‎तो भी वह उतना ही पानी का उपयोग करे जितना उसे ज़रूरी हो.

वस्तुओं की अंधाधुंध खपत ‎भी पर्यावरण में असंतुलन के लिए जिम्मेदार है. अल्लाह के रसूल ने कहा कि पेड़ लगाओ. यदि ‎कोई व्यक्ति एक पेड़ लगाता है, तो उस से जब तक कोई इंसान या जानवर फ़ायदा उठाएगा ‎उस वक़्त तक उसको इसका सवाब मिलता रहेगा. (बुख़ारी) ‎

इसी तरह हदीस है कि अगर किसी के हाथ में पौधा हो और क़यामत आ जाए तो वह ‎उस पौधे को ज़मीन में रोपित दे. (मुसनद अहमद).

इस्लाम को इस दुनिया के संतुलित उपयोग की आवश्यकता है और इसके संतुलित ‎उपयोग से ही इसका संतुलन बनाए रखा जा सकता है. अतः संतुलन की यह अवधारणा ‎पर्यावरणवाद और उपभोक्तावाद द्वारा उत्पन्न अनेक समस्याओं का सर्वोत्तम समाधान है और ‎इसका फ़ायदा पूरी इंसानियत को मिलेगा.

आज के वैश्विक गांव में, सिकुड़ती हुई दूरियों और बढ़ती उपभोक्तावाद के माहौल में इस्लाम ‎की शिक्षाएं और अल्लाह के रसूल (सल्ल.) की कही बातें एक ऐसा उदाहरण है जिसका पालन ‎करके इस दुनिया को एक बार फिर से शांति के पथ पर लाया जा सकता है, बढ़ती हुई समाजी ‎दूरियों को कम करके लोगों को क़रीब लाया जा सकता है, बढ़ते हुए असंतुलन को संतुलन में परिवर्तित किया जा सकता है.

‎(लेखक जामिया मिल्लिया इस्लामिया के प्रोफेसर एमेरिटस (इस्लामिक स्टडीज) हैं.)‎

साभार: आवाज द वॉइस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here