रजा एकेडमी की एफ़आईआर पर मुंबई पुलिस ने नपूर शर्मा को तलब किया

मुंबई, 11 जून | भाजपा के पूर्व प्रवक्ता नूपुर शर्मा ने मुस्तफा जाने रहमत की गरिमा का अपमान कर न केवल भारतीय मुसलमानों बल्कि दुनिया भर के मुसलमानों की भावनाओं का अपमान किया है। मुसलमानों के दिलों को दुखाय है। नूपुर शर्मा के खिलाफ देश में पहली एफ़आईआर रजा एकेडमी ने मुंबई के पैधोनी पुलिस स्टेशन में दर्ज कराई थी। नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल की बदतमीजी को लेकर देश भर में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए, जिसका विरोध खाड़ी देशों सहित दुनिया भर के देशों ने किया। भारतीय राजदूतों को इन दिनों तलब किया गया था और इस तरह के अतिवादी नफरत के कारण वे बहुत शर्मिंदा हुए और कहा कि यह भारत की स्थिति नहीं है। लेकिन मोदी सरकार ने कार्रवाई के नाम पर कुछ नहीं किया। दूसरी ओर विरोध का सिलसिला लंबा होता जा रहा है,  वहीं प्रदर्शनकारियों पर नकेल कसी जा रही है, गोलियां चल रही हैं। कार्रवाई के नाम पर दिल्ली पुलिस नेपुर शर्मा और कुछ अन्य के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर मामले को दबाना चाहती है ताकि भाजपा अपने पूर्व प्रवक्ताओं को कुछ हद तक सुरक्षित रख सके।

इस बीच, रजा एकेडमी के महासचिव मुहम्मद सईद नूरी ने कहा कि रजा एकेडमी ने मुंबई के पैधोनी पुलिस स्टेशन में टाइम्स नाउ चैनल पर नूपुर शर्मा की कथित बदतमीजी के खिलाफ तुरंत प्राथमिकी दर्ज की थी। इसके अलावा और भी कई जगहों पर मामले दर्ज किए गए हैं लेकिन अभी तक उसे गिरफ्तार नहीं किया गया है जिसके चलते कानपुर समेत भारत के कई बड़े शहरों में हिंसा हुई है।  वहीं, दूसरे देशों में विरोध प्रदर्शन जारी है। कुछ देश भारतीय सामानों के बहिष्कार के साथ भारत से माफी की मांग भी करते हैं। इन दो ढीठ नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के कारण भारत की साख को बड़ा झटका लगा है। हालांकि मुंबई पुलिस ने समन जारी कर 25 जून को पूछताछ के लिए नपुर शर्मा को तलब किया है, जबकि महाराष्ट्र पुलिस ने उन्हें 20 जून से पहले पेश होने का आदेश दिया है।

नूरी साहब ने जोर देकर कहा कि जब तक इन गुनहगारों को गिरफ्तार नहीं किया जाता तब तक मामला रुकने वाला नहीं है। सरकार को इस संबंध में तत्काल और कठोर कदम उठाने चाहिए और पवित्र पैगंबर के सम्मान की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए स्पष्ट कानून बनाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here