मोहम्मद शमी – भारत को सेमीफाइनल में पहुंचाने वाले अनसंग हीरो

मोहम्मद शमी… भारत को T-20 वर्ल्ड कप 2022 के सेमीफाइनल में पहुंचाने वाले अनसंग हीरो। अनसंग हीरो इसलिए क्योंकि उन्होंने अपना काम तो पूरी शिद्दत से कर दिया, लेकिन इसकी इतनी चर्चा हुई नहीं जितनी होनी चाहिए थी। इस वर्ल्ड कप में अब तक खेले गए 5 मुकाबलों में शमी ने 6.11 इकोनॉमी से रन दिए हैं और 6 विकेट अपने नाम किए हैं। शमी ने अक्सर उन परिस्थितियों में विकेट चटकाए हैं, जहां पर विरोधी टीम बड़ी साझेदारी बना चुकी थी।

T-20 वर्ल्ड कप 2021 के बाद उनको इंडियन टीम से ड्रॉप कर दिया गया। 11 महीनों तक एक भी T-20 मुकाबला खेलने नहीं दिया गया। जब बुमराह की चोट को लेकर सवाल उठ रहे थे, तब भी वर्ल्ड कप के एक्स्ट्रा प्लेयर्स में शमी को चुना गया। अभ्यास मैच में जब आखिरी ओवर में ऑस्ट्रेलिया को 11 रन बनाने थे, तब पवेलियन से बुलाकर शमी के हाथ में पहली बार गेंद थमा दी गई। अगर शमी की गेंदबाजी खराब होती तो हार का ठीकरा उन पर फोड़ दिया जाता। फिर पूरे वर्ल्ड कप में शमी को अवसर नहीं दिया जाता। शमी ने उस पूरे ओवर में केवल 4 रन दिए और अंतिम 4 गेंदों पर 4 ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों का शिकार किया। इनमें से 1 रन आउट और 3 विकेट शमी के खाते में गए। सही मायनों में कहा जाए तो इस 1 ओवर के बाद ही कंगारू टीम की फॉर्म पूरे वर्ल्ड कप में खराब रही और अब वह टूर्नामेंट से बाहर हो चुकी है।

इस एक परफॉर्मेंस के बूते शमी ने तय कर दिया कि अब कोई चाह कर भी उनको वर्ल्ड कप की प्लेइंग इलेवन से बाहर नहीं कर पाएगा। भारत का इस वर्ल्ड कप का पहला मुकाबला 23 अक्टूबर को मेलबर्न में पाकिस्तान के खिलाफ हुआ। अर्शदीप सिंह ने दोनों ओपनर को पवेलियन लौटा दिया लेकिन इफ्तिखार अहमद ने खूंटा गाड़ दिया। 34 गेंदों पर 51 रन बनाकर बल्लेबाजी कर रहा था और लग रहा था कि पाकिस्तानी स्कोरबोर्ड को 200 के पार लेकर चला जाएगा। 13वें ओवर की दूसरी गेंद शमी ने तेज और फुलर लेंथ की रखी। सीधे पैड्स पर और इफ्तिकार LBW। इस एक लम्हे में मैच पूरी तरह पलट गया। शमी ने मुकाबले में 4 ओवरों में 25 रन देकर एक विकेट लिया। पाकिस्तान 159 पर रुक गया और किंग कोहली के 53 गेंदों पर तूफानी 82* की बदौलत भारत ने 4 विकेट से मुकाबला जीत लिया।

भारत का दूसरा मुकाबला 27 अक्टूबर को नीदरलैंड से हुआ। 180 का टारगेट चेज करते हुए आखिरी लम्हों में टॉम प्रिंगल एक चौका और एक छक्का लगाकर 14 गेंदों में 20 रन बनाकर खेल रहे थे। शमी ने धीमी ओवर पिच गेंद डालकर प्रिंगल को चिप करने के लिए मजबूर किया और मिड ऑफ पर कोहली ने शानदार कैच लपक लिया। इस मुकाबले में शमी ने 4 ओवर में 27 रन देकर एक विकेट हासिल किया। भारत ने 56 रनों से यह मुकाबला अपने नाम कर लिया।

तारीख थी 30 अक्टूबर, 2022 और भारत का तीसरा मुकाबला साउथ अफ्रीका से था। सूर्यकुमार यादव को छोड़कर बाकी तमाम बल्लेबाज फ्लॉप हो गए और अफ्रीकी टीम के सामने केवल 134 रनों का टारगेट था। शमी ने छठे ओवर की चौथी गेंद पर अक्रॉस द स्टम्प जाकर लैप शॉट खेलने का प्रयास कर रहे बावुमा को दिनेश कार्तिक के हाथों कैच आउट करवा दिया। साउथ अफ्रीका के खिलाफ शमी ने 4 ओवरों में 3.2 की अविश्वसनीय इकोनॉमी से केवल 13 रन दिए और 1 विकेट हासिल किया। इस मैच में बाकी तमाम गेंदबाजों की इकोनॉमी 5 से ऊपर थी… कुछ की तो 10 से भी ऊपर…! खराब फील्डिंग के कारण आखिरी लम्हों में भारत 5 विकेट से मैच जरूर हार गया लेकिन शमी ने अपनी गेंदबाजी से हर हिंदुस्तानी का दिल जीत लिया।

अब तारीख थी 2 नवंबर और एडिलेड ओवल के मैदान में भारत के सामने था बांग्लादेश। 185 का टारगेट चेज करते हुए बांग्लादेश ने ताबड़तोड़ शुरुआत की। लिटन दास और शंतो की सलामी जोड़ी ने 7 ओवरों में 67 रन बना दिए। इसके बाद केएल राहुल के थ्रो पर लिटन रन आउट हुए। इसके बाद 10वें ओवर की पहली गेंद शमी ने एंगल के साथ अंदर आती हुई फुल लेंथ की डाली। बड़े स्कोर के दबाव में शंतो ने लॉन्गऑन की तरफ छक्का मारने का प्रयास किया और सूर्यकुमार यादव ने बेहतरीन कैच लपक लिया। शंतो 21 रन बनाकर पवेलियन लौटे और मुकाबले में शमी ने 25 रन देकर एक शिकार किया। डकवर्थ लुईस नियम के तहत बांग्लादेश ने 5 रनों से मैच गंवा दिया।

6 नवंबर 2022 यानी कि रविवार और भारत अंतिम ग्रुप मुकाबले में जिम्बाब्वे के सामने था। जिम्बाब्वे की टीम 187 का बड़ा टारगेट चेज कर रही थी। पावरप्ले की अंतिम गेंद और शमी ने इनफॉर्म बल्लेबाज विलियम्स को वाइडिश डिलीवरी आउटसाइड ऑफ डाली। विलियम्स शरीर से दूर खेल बैठे और थर्डमैच में भुवनेश्वर के हाथों आसान सा कैच। फिर आठवें ओवर की तीसरी गेंद पर मुनोयोंगा को LBW कर शमी ने जिम्बाब्वे की कमर तोड़कर रख दी। मुकाबले में शमी ने कुल 2 ओवर डाले और 14 रन देकर दो विकेट अपने नाम किए। भारत में 71 रनों से मुकाबला अपने नाम कर लिया।

5 मुकाबले खेल कर टीम इंडिया ने 4 में जीत हासिल की और +1.319 इकोनॉमी तथा 8 पॉइंट्स के साथ ग्रुप-2 में टॉप पर रहा। जसप्रीत बुमराह की अनुपस्थिति में जिस तरह शमी ने तमाम गेंदबाजों के साथ सामंजस्य बिठाकर भारत को मुकाबले जिताए, वह काबिल-ए-तारीफ है। 10 नवंबर को सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ भी उनसे तूफानी प्रदर्शन की उम्मीद है।

कभी नहीं खलने देगा भारत को बुमराह की कमी
हिंदुस्तान को वर्ल्ड कप जिताएगा मोहम्मद शमी ❤️

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here