मिलिये ‘कुरान का मारवाड़ी में अनुवाद’ करने वाले राजीव शर्मा से

देश में इन दिनों सांप्रदायिक ताकतों का बोलबाला है। वे हर जगह हिन्दू-मुस्लिम भाईचारे को नुकसान पहुंचा रही है। लेकिन आज भी कुछ लोग ऐसे है जो इस भाईचारे को न केवल बनाए रखना चाहते है बल्कि इस भाईचारे के लिए मेहनत भी कर रहे है। इन लोगों में से ही एक है राजस्था’न के झुंझनू जिले के रहने वाले राजीव शर्मा।

राजीव शर्मा ने पैगम्बर हज़रत मोहम्मद सल्लाहु अलैहि वसल्ल’म की जीवनी और कुरान को मारवाड़ी भाषा मे अनुवाद किया है। उनका उद्देश्य इस्लाम के असल संदेश को राजस्थान की भाषा मारवाड़ी में स्थानीय लोगों तक पहुंचाना है। इसके लिए वह एक ऑनलाइन लाइब्रेरी भी चलाते है।

इस्लाम धर्म को लेकर उनका कहना है कि इस्लाम शांति का धर्म है और कोई अगर इस्लाम के नाम पर कोई गलत काम करता है, या हिं’सा करता है तो उसका इस्लाम से कोई वास्ता नहीं है। बल्कि वह क़ुरआन और हज़रत मोहम्मद सल्लाहु अलैहि वसल्ल’म की शिक्षाओं के खिलाफ काम करते हुए पाप का भागीदार है।

1400 साल के इस्लाम के इतिहास में पहली बार किसी शख्स ने कुरान की मारवाड़ी भाषा में अनुवाद किया है। वह 2015 में पैगम्बर हज़रत मोहम्मद सल्लाहु अलैहि वसल्ल’म की जीवनी का भी मारवाड़ी में अनुवाद कर चुके है।

पेशे से पत्रकार राजीव शर्मा का कहना है कि अनुवाद करते समय उन्हे क़ु’रआन में ऐसी कई आयते मिली जो शांति, सदाचार, और नैतिक’ता का संदेश देती है । उन्होंने बताया कि अगर किसी ने एक बेगु’नाह की ह’त्या की तो उसका यह पाप पूरी मानव’ता की मृ’त्यु करने के बराबर माना जायेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here