मिलिए, निकोलॉजी की सीईओ और भारत के डिजिटल उद्यमियों में से एक मेहर शेख से

शगुफ्ता नेमत /नई दिल्ली

नोएडा में एक कंपनी से काम शुरूआत करने वाली एक न्यूज एंकर से लेकर उस कंपनी के सामने अपना ऑफिस स्थापित करने तक, मेहर शेख ने अपने पेशेवर करियर में एक लंबा सफर तय किया है. मेहर एक भारतीय प्रेरक वक्ता और पेपर नेटवर्क की संस्थापक और निदेशक और लगभग 2 मिलियन सस्क्राइबर के साथ एक यूट्यूब चैनल चौन निकोलॉजी की सीईओ हैं.

वह ग्लोबोलोसिस फैशन की संस्थापक भी हैं. जल्द ही अपना खुद का लेबल सोतबेला लॉन्च करने जा रही हैं. पेपर नेटवर्क की सह-संस्थापक और सीईओ मेहर शेख का जन्म एक मध्यमवर्गीय मुस्लिम परिवार में हुआ है.

वह शुरू से ही जानती थीं कि एक रोल मॉडल बनने के लिए हैं और जो उन्हें बताया और सिखाया गया, उसके बजाय वह अपने तरीके से करेंगी और आगे बढ़ेंगी. फिर इस युवा और खूबसूरत एंकर ने सफलता के लिए अपना रास्ता खुद चुना.

हालांकि दिल्ली के जामिया मिल्लिया इस्लामिया से अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, वह आर्थिक रूप से स्वतंत्र होना चाहती थीं, क्योंकि उन्हें पता था कि यह उनके सपनों को पूरा करने का एकमात्र तरीका है. इसलिए, उन्होंने नोएडा में एक कंपनी के साथ फैशन मर्चेंडाइजर के रूप में काम किया.

लगभग ढाई साल तक वहां काम करने के बाद उन्होंने पत्रकारिता की पढ़ाई और एंकर बनने के अपने सपने को पूरा करने के लिए पर्याप्त बचत की. हालंाकि वह इस तथ्य को जानती थीं कि वह अन्य कॉलेज जाने वाली लड़कियों की तरह अपने माता-पिता की पॉकेट मनी पर निर्भर नहीं रह सकती.

पढ़ाई के खर्चों का प्रबंधन खुद ही करना होगा. और आर्थिक रूप से स्वतंत्र जीवन जीना होगा. इसलिए उन्हांेने अपने स्तर से ही हाई स्कूल की पढ़ाई पूरी करने का एक नियम सा बना लिया था.

इसके बाद उन्हांेने गुरूग्राम में एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में रात की पाली की नौकरी चुनने का फैसला किया. साथ ही अपना पत्रकारिता पाठ्यक्रम पूरा किया. तब वह एक 20 वर्षीय लड़की थी.

पूर्णकालिक रात की पाली की नौकरी के बाद वह पूर्णकालिक कॉलेज में पढ़ने जाती थीं. वह बताती हैं कि इस दौरान केवल 2 घंटे ही सो पाती थी. वह भी अपने कार्यालय की कैब में. एक पत्रकार बनने के अपने सपनों को पूरा करने के लिए काफी कठिनाइयां झेलीं. उन्हें पता था कि लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए कुछ भी किया जा सकता है.

दरअसल, आज उनकी गिनती उन महिलाओं में की जा सकती है जिन्होंने न सिर्फ खुद को सशक्त बनाने के लिए बल्कि अन्य महिलाओं को भी प्रेरित करने के लिए कुछ अलग किया है.

निकोलॉजी के साथ उनका दृष्टिकोण शिक्षार्थियों के एक समुदाय का निर्माण करना और लोगों को महान प्रेरक सामग्री के साथ शिक्षित करना और युवाओं को उद्यमिता की ओर बढ़ने के लिए प्रेरित करना है.

साभार: आवाज द वॉइस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here