क्रिकेट मेरा पहला प्यार है, मेरा जुनून हैः नासिर लोन

आवाज-द वॉयस / श्रीनगर

‘क्रिकेट से मेरा परिचय उतना ही पुराना है, जितना कि मेरी चेतना. क्रिकेट मेरा पहला प्यार है, मेरा जुनून है. क्रिकेट बचपन से मेरे खून में रहा है.’ ये किसी फिल्म या नाटक के संवाद नहीं हैं, बल्कि कश्मीर के एक युवा क्रिकेटर के शब्द हैं, जिन्हें मुंबई इंडियंस ने ट्रायल के लिए आमंत्रित किया गया है. 25वर्षीय नासिर लोन को हाल ही में मुंबई इंडियंस ने आईपीएल 2022के ट्रायल के लिए बुलाया है, जिसके बाद उनके आईपीएल में खेलने की संभावना है.

अगर नासिर लोन आईपीएल 2022में जगह बनाने में कामयाब हो जाते हैं, तो वह इतने बड़े आयोजन के लिए चुने जाने वाले जम्मू-कश्मीर के पांचवें खिलाड़ी बन जाएंगे.

नासिर लोन जम्मू-कश्मीर के सुदूरवर्ती जिले बांदीपोरा के गुंड कैसर इलाके के रहने वाले हैं. उन्हें खुशी है कि आईपीएल जैसे बड़े और अहम इवेंट में जगह बनाने के लिए उन्हें ट्रायल्स के लिए बुलाया गया है.

उन्होंने आवाज-द वॉयस को बताया, ‘मैं बहुत अच्छा महसूस कर रहा हूं. परिवार भी बहुत खुश है. हम सब घर में एक साथ बैठे थे. जैसे ही मुंबई इंडियन का फोन आया, मैंने लाउडस्पीकर चालू कर दिया और जब परिवार ने सुना कि मुझे ट्रायल के लिए बुलाया गया है, तो सभी खड़े हो गए और नाचने लगे. मैं अपनी खुशी को शब्दों में बयां नहीं कर सकता.’

जिंदगी की असली उड़ान अभी बाकी है

उन्होंने कहा, ‘मेरा एक सपना है, जो सच होने जा रहा है. यह तो शुरुआत है, अब आसमान छूने का समय है. जिस तरह से मैं कड़ी मेहनत और समर्पण के साथ अभ्यास करता हूं, मुझे उम्मीद है कि मैं आगे बढ़ सकता हूं.’

नासिर लोन को बचपन से ही क्रिकेट खेलने का जुनून रहा है. वह एक ऑलराउंडर हैं. घाटी में, उन्हें एक आक्रामक बल्लेबाज के रूप में माना जाता है, जो किसी भी गेंदबाज को पटखनी देने की क्षमता रखता है.

उन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर जम्मू-कश्मीर अंडर-19और अंडर-23टीमों का प्रतिनिधित्व किया है. जहां उनका प्रदर्शन सराहनीय रहा. नासिर पिछले साल अंडर-25वर्ग में विजय हजारे ट्रॉफी के लिए खेले थे.

क्रिकेट नासिर का प्यार

नासिर लोन ने आवाज-द वॉयस से अपने जीवन, क्रिकेट यात्रा और शौक के बारे में विस्तार से बात की और कहा कि यह अभी शुरुआत है, जीवन की असली उड़ान अभी बाकी है. मुझे विश्व मंच पर भारत का प्रतिनिधित्व करना है.

नासिर के मुताबिक मुझे बचपन से ही क्रिकेट खेलने का शौक रहा है. क्रिकेट की शुरुआत गली के कोचों से हुई थी. जब मैंने अपने गृहनगर में क्रिकेट खेलना शुरू किया, तो मैंने एक महान क्रिकेटर बनने का सपना देखना शुरू कर दिया और मेरा सपना भारतीय अंतरराष्ट्रीय टीम का हिस्सा बनने का है.

नासिर लोन एक विज्ञान स्नातक हैं और क्रिकेट को अपना जुनून और प्यार मानते हैं. उन्हें क्रिकेट से इतना लगाव है कि वह लगातार पांच दिन टेस्ट मैच देखते हैं.

गरीबी को आड़े न आने दें

उनका कहना है कि मंजिल तक पहुंचना मुश्किल हो गया. बहुत सारे उतार-चढ़ाव देखे, आर्थिक कठिनाइयों के साथ-साथ अन्य कठिनाइयों का भी सामना किया, लेकिन परिवार के समर्थन के कारण कभी हार नहीं मानी.

उन्होंने कहा, ‘मैं एक मध्यम वर्गीय परिवार से ताल्लुक रखता हूं. मेरे पिताजी एक निजी स्कूल में एक छोटा सा पद रखते हैं. उनका वेतन बहुत कम है. क्रिकेट के उपकरण खरीदने के लिए पैसे नहीं थे, लेकिन पापा ने इसे कभी महसूस नहीं होने दिया. उन्होंने हमेशा मेरा साथ दिया है. वहीं, संगम क्षेत्र के बैट बनाने वाले फिरोज अहमद ने मुझे प्रायोजित किया. उन्होंने मुझे क्रिकेट के उपकरण मुहैया कराए और आज तक करते आ रहे हैं. उनके प्रायोजन के बिना मेरे लिए इस स्थान तक पहुंचना असंभव होता. मैं अपनी मंजिल के बहुत करीब महसूस करता हूं. लेकिन मुझे अभी भी अपनी मंजिल तक पहुंचने के लिए कड़ी मेहनत करनी है, जिसके लिए मैं मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार हूं.’

नासिर के रोल मॉडल विराट कोहली

नासिर लोन अपने आदर्श खिलाड़ी विराट कोहली और महेंद्र सिंह धोनी की तरह बनना चाहते हैं, लेकिन वहां पहुंचने के लिए उन्हें लगातार बने रहना होगा और कड़ी मेहनत करनी होगी.

उनका कहना है कि मेरे रोल मॉडल विराट कोहली और एमएस धोनी हैं. कोहली और धोनी के सामने स्पिन गेंदबाज और तेज गेंदबाज कांपते हैं. वे किसी भी गेंदबाजी आक्रमण की धज्जियां उड़ाने में सक्षम हैं. मैं उनके जैसा नहीं हो सकता लेकिन मैं उनकी शैली की नकल करने की कोशिश करना चाहता हूं. मेरे दोस्त अक्सर मुझे नासिर कोहली बुलाते हैं.

कश्मीरी युवाओं में है कुछ करने का जुनून

नासिर के मुताबिक, कश्मीर में देश के किसी भी अन्य राज्य की तुलना में अधिक प्रतिभा है. यहां के युवा मेहनती होने के साथ-साथ भावुक भी हैं. लेकिन यहां युवाओं के लिए कोई सुविधाए नहीं है. जब से इरफान पठान कश्मीर में युवाओं को कोचिंग दे रहे हैं, क्रिकेट में काफी सुधार हुआ है. लड़कों को पढ़ाने, मार्गदर्शन करने और उन्हें सही रास्ते पर लाने के लिए प्रशिक्षित प्रशिक्षकों की आवश्यकता होती है.

गौरतलब है कि अब तक जम्मू-कश्मीर के 5 खिलाड़ी ऐसे हैं, जो आईपीएल में जगह बनाने में सफल रहे हैं. दो साल पहले मुंबई इंडियंस ने दक्षिण कश्मीर के कुलगाम से रस्क सलाम लिया था. अब्दुल समद और इमरान मलिक सन राइजर हैदराबाद टीम का हिस्सा हैं. उन्हें हैदराबाद ने आईपीएल 2022 के लिए 4 करोड़ रुपये में खरीदा है. बांदीपोरा के मंजूर पांडो को किंग्स इलेवन पंजाब ने 2018 के आईपीएल सीजन के लिए खरीदा था, लेकिन उन्हें मैदान पर अपनी छाप छोड़ने का मौका नहीं मिला.

साभार: आवाज द वॉइस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here