इस्माइलः कबाड़ से किताबें इकट्ठा कर बना दी लाइब्रेरी

आवाज-द वॉयस / नई दिल्ली

अक्सर देखा गया है कि जो लोग समाज में ज्ञान से परिचित नहीं हैं, वे ज्ञान को महत्व देते हैं. इसका ताजा उदाहरण कर्नाटक राज्य के मंगलुरु में देखने को मिलता है, जहां इस्माइल कंथुर ने अपने कार्यों से साबित कर दिया है कि शिक्षित न होना कोई अभिशाप नहीं है, लेकिन ज्ञान साझा करने की गुंजाइश हमेशा बनी रहती है.

हालांकि इस्माइल पेशे से सफाई कर्मचारी हैं, लेकिन उन्होंने अपने आवास पर 2,000 से अधिक पुस्तकों का एक छोटा पुस्तकालय बनाया है.

मंगलुरु के बंतवाल के बालीपुनी गांव के होवाकोवाक्लू में उनकी कबाड़ की दुकान है. इस्माइल ज्यादा पढ़े-लिखे नहीं हैं, उन्होंने सिर्फ पहली कक्षा तक ही पढ़ाई की है.

हालांकि, वे पढ़ना-लिखना जानते हैं. वे शिक्षा और ज्ञान के महत्व से अच्छी तरह वाकिफ हैं. किताबों के महत्व को देखते हुए इस्माइल ने अपने आवास पर एक छोटा सा पुस्तकालय बनाया है. वह 25 साल से कूड़ा उठाने का काम कर रहे हैं. जब उन्हें मैला ढोने के दौरान अच्छी किताबें मिल जाती हैं, तो वे उन्हें इकट्ठा करके बचा लेते हैं.

शुरुआत में इस्माइल एक फल विक्रेता था, उसके बाद उसने नेर्डी में काम करना शुरू कर दिया, क्योंकि उसे फल व्यवसाय में घाटा हुआ था. इसी सिलसिले में उसके एक दोस्त ने उसे कबाड़ की दुकान खोलने की सलाह दी.

शुरुआत में, हालांकि उन्हें कबाड़ के कारोबार में कोई अनुभव नहीं था, लेकिन उन्हें इसमें कड़ी मेहनत करनी पड़ी, जिसके बाद वे इस व्यवसाय में सफल हो गए. वहां इस्माइल एक सक्रिय सामाजिक कार्यकर्ता हैं. उन्होंने कई पीड़ित लोगों की मदद की है.

जब भी आसपास कोई दुर्घटना या समस्या होती है, तो इस्माइल पीड़ितों की मदद के लिए खड़े हो जाते हैं, यहां तक कि अस्पताल भी जाते हैं और घायलों की मदद करते हैं. इसके अलावा, उन्होंने चंदा इकट्ठा करके गरीब लड़कियों की शादी में मदद की है. इस्माइल ने एक इंटरव्यू में कहा था कि मैंने कई अच्छी किताबें इकट्ठी की हैं. मैं इसे औपचारिक पुस्तकालय बनाना चाहता हूं.

वे कहते हैं कि मैं पढ़ा-लिखी नहीं हूं, लेकिन किताबें पढ़कर दूसरों को शिक्षित होने देना चाहता हूं. इसके अलावा मैंने कई लोगों को 2000 से ज्यादा किताबें फ्री में दी हैं. उनका कहना है कि भले ही कुछ लोग मुझे थोड़ी सी रकम दे देते हैं और मेरे मना करने पर भी लोग मेरी जेब में पैसे डालते हैं और चले जाते हैं.’’

हालांकि, बहुत से लोग मुफ्त किताबें लेते हैं. कुछ शिक्षक और छात्र मुझसे किताबें भी लेते हैं. चूंकि मैं ज्यादा पढ़ा-लिखा नहीं हूं, इसलिए मैंने अपने पांच बच्चों को पढ़ाया है.

उन्होंने यह भी कहा कि एक व्यक्ति ने उन्हें उपलब्ध पुस्तकों के साथ एक पुस्तकालय स्थापित करने के लिए प्रोत्साहित किया था. इस्माइल ने अपने आवास में लकड़ी की अलमारियों पर किताबों की व्यवस्था की है. लोग उनकी एकत्रित पुस्तकों का उपयोग करते हैं. इस्माइल को उनकी सामाजिक सेवाओं के लिए ‘गांधी’ के नाम से भी जाना जाता है.

उनके सक्रिय स्वच्छता अभियान के लिए उन्हें कई संगठनों और संस्थानों द्वारा सम्मानित किया गया है. इस्माइल कई वर्षों से क्षेत्र में सफाई अभियान में शामिल है. उन्होंने कई गरीब और पिछड़े लोगों की मदद की है.

इस्माइल विभिन्न सामाजिक कारणों के लिए भी सक्रिय रूप से काम करते हैं. वे मंदिरों और मस्जिदों से पैसे चुराने वाले चोरों का पता लगाने में पुलिस विभाग की भी मदद करते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here