जाकिर नाइक को फीफा विश्व कप में आमंत्रित करने पर भारत नाराज, केंद्रीय मंत्री पुरी ने कहा, कतर के समक्ष मुद्दा उठेगा

आवाज द वॉयस /नई दिल्ली
फीफा वर्ल्ड कप 2022में लेक्चर देने के लिए जाकिर नाइक को बुलाए जाने परभारत ने ऐतराज जताया है.केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने कहा कि भारत इसे कतर के सामने उठाएगा.विवादास्पद इस्लामिक नेता जाकिर नाइक को कतर द्वारा 2022फीफा विश्व कप टूर्नामेंट में व्याख्यान देने के लिए आमंत्रित करने पर 2016 से फरार चल रहे जाकिर नाइक के बारे में, केंद्रीय मंत्री एचएस पुरी ने कहा, मुझे यकीन है कि भारत इसे उठाएगा. इसके साथ ही उन्हांेने यह भी कहा कि जाकिर नाइक मलेशियाई नागरिक है. उसे कहीं भी आमंत्रित कर सकते हैं.
बता दें कि मुस्लिम युवाओं को कट्टरपंथी बनाने के आरोप में जाकिर नाइक पर आईआरएफ के तहत 5साल का प्रतिबंध लगा हुआ है.बताते हैं कि 2022फीफा विश्व कप टूर्नामेंट से पहले भी जाकिर नाइक कथित तौर पर मलेशिया से कतर जा चुके हैं. वह 2017से मलेशिया में निर्वासित जीवन बता रहे हैं.
बता दें कि नाइकभारत में मनी लॉन्ड्रिंग और भड़काउ भाषा के आरोपों का सामना कर रहे हैं. प्रवर्तन निदेशालय और राष्ट्रीय जांच एजेंसी दोनों को उनकी तलाष है.नाइक के कतर पहुंचने परस्तंभकार और लेखक, अब्दुल्ला अलमादी ने ट्विटर पर लिखा, माशाअल्लाह.. डॉ जाकिर नाइक फीफा विश्व कप में भाग लेने के लिए कतर  पहुंचे. कतर 2022में भाग लेने वालों के पास उनसे आमने-सामने मिलने का सुनहरा अवसर होगा.
जाकिर नाइक कौन है?
मुंबई में जन्मे भगोड़े जाकिर नाइक 2016के ढाका बम विस्फोट के मद्देनजर भारत से मलेषिया भाग गए थे. उन पर अपने पीस टीवी और सोशल मीडिया नेटवर्क के माध्यम से समुदायों के बीच नफरत फैलाने का आरोप है.

वह फिलहाल मलेशिया में रह रहे हैं.कथित तौर पर नाइक ने 1990के दशक के दौरान इस्लामिक रिसर्च फाउंडेशन के माध्यम से इस्लाम का प्रचार करने वाली अपनी गतिविधियों के लिए प्रसिद्धि हासिल की थी. हालांकि एक दशक के भीतर उनके वीडियो बहस का विषय बन गए, क्योंकि उन्होंने यह स्थापित करने का प्रयास किया कि इस्लाम अन्य धर्मों से श्रेष्ठ है.

साभार: आवाज द वॉइस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here