भारत और यूएई में रुपये-दिरहम द्विपक्षीय व्यापार के लिए वार्ता जारी

नई दिल्ली.

संयुक्त अरब अमीरात में भारत के राजदूत संजय सुधीर ने कहा कि भारत और संयुक्त अरब अमीरात एक रुपया-दिरहम द्विपक्षीय व्यापार के लिए बातचीत कर रहे हैं. दोनों देशों को यह फायदेमंद लगेगा. राजदूत ने कहा कि वार्ता 1 सितंबर, 2022 को शुरू हुई थी.

उन्होंने कहा, ‘‘दोनों देशों को यह फायदेमंद लगता है. भारत ने संयुक्त अरब अमीरात के साथ एक अवधारणा पत्र साझा किया है. दोनों देशों के सेंट्रल बैंक चर्चा कर रहे हैं.

इसका मकसद लेन-देन की लागत को कम करना है.’’ इस विकास ने भारतीय रिजर्व बैंक की घोषणा, विशेष रूप से भारत के निर्यात के लिए अंतरराष्ट्रीय व्यापार में भुगतान को व्यवस्थित करने के लिए एक तंत्र विकसित करने का पालन किया.

यह व्यापक रूप से माना जाता है कि यदि तंत्र सफल होता है, तो यह लंबे समय में भारतीय मुद्रा रुपये के अंतर्राष्ट्रीयकरण में एक लंबा रास्ता तय कर सकता है. एक मुद्रा को ‘अंतर्राष्ट्रीय’ कहा जा सकता है, यदि इसे विनिमय के माध्यम के रूप में दुनिया भर में व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है.

एसबीआई रिसर्च ने जुलाई की शुरुआत में एक रिपोर्ट में कहा, वैश्विक मुद्रा बाजार में एक दिलचस्प विकास हो रहा है, क्योंकि रेनमिनबी, हांगकांग डॉलर और अरब अमीरात दिरहम जैसी मुद्राओं में तेल और अन्य वस्तुओं के व्यापार में महत्वपूर्ण उछाल आया है. रिपोर्ट में, एसबीआई रिसर्च ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) को चल रहे रूस-यूक्रेन युद्ध के कारण भुगतान में व्यवधान के बीच भारतीय मुद्रा रुपये का अंतर्राष्ट्रीयकरण करने के लिए एक सचेत प्रयास करना चाहिए.

साभार: आवाज द वॉइस

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here