सरब्रेनीत्सा क़त्लेआम की 25वीं बर्सी पर शवों के अवशेष दफ़नाए गए, क्या गुजरात क़त्लेआम की कभी बर्सी मनाई जाएगी?

बोस्निया के मुसलमान सर्बों के हाथों किए गए क़त्लेआम की बर्सी बना रहा है। इस क़त्ले आम को अब 25 साल बीत चुके हैं इसमें आठ हज़ार से अधिक मुसलमान जिनमें बच्चे भी शामिल थे सर्ब सैनिकों के हाथों बेरहमी से क़त्ल कर दिए गए थे।

हर साल दसियों हज़ार लोग इस क़त्लेआम की बर्सी मनाने के लिए एकत्रित होते थे मगर कोरोना वायरस की महामारी की वजह से इस साल कुछ सौ लोग ही एकत्रित हो पाए। इस क़त्ले आम में मारे गए 9 लोगों के शवों के अवशेष भी मिले हैं जिनकी पहिचान हुई और परिजनों ने आकर उनका अंतिम संस्कार किया।

कार्यक्रम के आयोजन कर्ताओं ने लोगों से अपील की है कि वह पूरे जुलाई महीने में अलग अलग दिनों में आएं और क़त्ले आम का निशाना बनने वाले मज़लूमों को याद करें।

यहां एक सवाल यह है कि भारत के गुजरात दंगों में भी योजनाबद्ध तरीक़े से मुसलमानों का क़त्लेआम किया गया था मगर इस क़त्ले आम के मज़लूमों की बर्सी नहीं मनाई जाती। मारे गए लोगों की पहिचान करके उनके परिजन उनका पुनः अंतिम संस्कार नहीं कर सकते। क्या कभी वह समय आएगा जब गुजरात क़त्लेआम जैसे भारत में होने वाली घटनाओं की बर्सी मनाई जाएगी और इसमें मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी जाएगी?!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here